February 05, 2024   Admin Desk



त्वरित एवं समयबद्ध तरीके से गुणवत्ता पूर्वक निस्तारण के सख्त निर्देश- जिलाधिकारी

लखनऊ संवाददाता-सन्तोष उपाध्याय 

लखनऊ Lucknow, Uttar Pradesh: जिलाधिकारी सूर्य पाल गंगवार ने बताया कि जनपद की पांचों तहसीलों में सम्पूर्ण समाधान दिवस आयोजित किये गये । जिलाधिकारी ने कहा कि जनसामान्य की शिकायतों का स्थानीय स्तर पर समाधान किया जाना सरकार की प्राथमिकता है जिसके क्रम में तहसील व थानों में सम्पूर्ण समाधान दिवस का आयोजन किया जाता है। इसमें स्थानीय नागरिक उपस्थित होकर अपनी समस्याओं का समाधान करा सकते है। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी अधिकारी जनता की इन शिकायतों का निस्तारण त्वरित एवं समयबद्ध तरीके से एक सप्ताह में करना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि शिकायतों के निस्तारण में यदि कोई समस्या है तो उसका कारण स्पष्ट करते हुए अवगत कराना सुनिश्चित किया जाये।     

उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण समाधान दिवस में प्राप्त शिकायतों का वरिष्ठ अधिकारी मौके पर जाकर जांच कर गुणवत्तापूर्वक निस्तारण करायें और यदि संज्ञान में आया कि निस्तारण की गुणवत्ता से शिकायत कर्ता संतुष्ट नही है या निस्तारण में लापरवाही बरती गयी है तो सम्बन्धित के विरूद्ध दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी। सूर्य पाल गंगवार ने बताया कि तहसील बीकेटी में आयोजित सम्पूर्ण समाधान दिवस में कुल 191 प्रकरण प्राप्त हुये, जिसमें से 68 प्रकरणों का निस्तारण मौके पर ही कर दिया गया। शेष प्रकरणों को निस्तारण हेतु सम्बन्धित विभागों को इस निर्देश के साथ उपलब्ध करा दिये गये कि उनका निस्तारण एक सप्ताह में सुनिश्चित करा दिया जायें। 

उन्होंने बताया कि सम्पूर्ण समाधान दिवसो में तहसील सदर में 37 में से 09 प्रकरण का निस्तारण प्रकरण, तहसील मलिहाबाद में 82 में से 07 प्रकरण का निस्तारण, तहसील बी.के.टी. में 191 में से 68 प्रकरण का निस्तारण, तहसील मोहनलालगंज में 189 में से 13 प्रकरण का निस्तारण तथा तहसील सरोजनीनगर में 116 में से 08 प्रकरण का निस्तारण मौके पर किया गया। शेष प्रकरणों को समयबद्ध निस्तारण हेतु सम्बन्धित विभागों को उपलब्ध करा दिये गये। जनपद में पुलिस 72, राजस्व एवम पुलिस संयुक्त 07, राजस्व 352, विकास 36, शिक्षा 05, समाज कल्याण 21, चिकित्सा 01 तथा अन्य 121 प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए है। समाधान दिवस के दौरान जिलाधिकारी द्वारा सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देश दिए गए की ऐसे प्रकरण जो तहसील दिवसों और जन सुनवाई में बार बार आते है उनका गंभीरता से संज्ञान लिया जाए और अगर प्रकरण निस्तारण योग्य है उसको तत्काल निस्तारित करना सुनिश्चित किया जाए। सभी अधिकारी अपने कार्यालय की कार्यप्रणाली को बदले और ऐसी व्यवस्था बनाए की शिकायतकर्ता को दुबारा उसी शिकायत के लिए कार्यालय आना ना पड़े। 

उक्त के बाद जिलाधिकारी द्वारा उपस्थित सभी अधिवक्ताओं को रियल टाइम खतौनी के बारे में भी विस्तार से समझाया गया। उन्होंने बताया की खतौनियो में अंश निर्धारण संबंधित अगर कोई आपत्ति है तो उसका निस्तारण 15 दिवस के भीतर सुनिश्चित कराया जाएगा। उक्त के बाद जिलाधिकारी द्वारा उपस्थित समस्त कानूनगो और लेखपालों के साथ संवाद किया गया। जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिए गए की पैमाईश (धारा24) के जो भी प्रकरण चाहे वह समाधान दिवस में या जनसुनवाई में प्राप्त हो उनका निस्तारण बिना कोर्ट के आदेश के नही किया जाएगा। पैमाईश केवल कोर्ट के आदेश से ही की जाएगी। उन्होंने बताया की सभी प्रक्रियाओं के लिए SOP बनाया जा रहा है। ताकि सभी लेखपाल SOP का पालन करते हुए ही कार्य करे। धारा 24 के कोर्ट के आदेश के अनुपालन के लिए यदि कही पर विवाद को आशंका लगती हो तो इसकी सूचना थाने पर देते हुए सहयोग लिया जाए। 

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अजय जैन, नगर मैजिस्ट्रेट श्री सिद्धार्थ, उप जिलाधिकारी तहसील बीकेटी सतीश त्रिपाठी, तहसीलदार मोहनलालगंज श्री विजय, पुलिस, समाज कल्याण सहित विभिन्न स्तरों के अधिकारी/कर्मचारीगण उपस्थित रहे।



Related Post

Advertisement



Trending News

Important Links

© Bharatiya Digital News. All Rights Reserved. Developed by NEETWEE